Saturday , June 22 2024

कार्बेट पार्क की पाखरो रेंज में टाइगर सफारी के लिए छह हजार से ज्यादा पेड़ बिना इजाजत काटे गए

कार्बेट पार्क की पाखरो रेंज में टाइगर सफारी के लिए छह हजार से ज्यादा पेड़ बिना इजाजत काट दिए गए। यह खुलासा फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया यानी एफएसआई की रिपोर्ट में हुआ है। एफएसआई ने यह रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दी है। हालांकि, पीसीसीएफ विनोद सिंघल ने इस रिपोर्ट में तकनीकी खामियां बताई हैं। 

पिछली सरकार के कार्यकाल में कॉर्बेट पार्क की पाखरो रेंज में टाइगर सफारी की योजना बनाई गई थी। लेकिन, इस योजना में एक के बाद एक तमाम अनियमितताएं सामने आईं। योजना में बिना इजाजत पेड़ काटने, टेंडर से पहले ही ठेकेदारों से काम कराने जैसी बातें जोर-शोर से उठीं तो मामले की जांच कराई गई। सरकार ने पेड़ कटान के मामले की जांच फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया को सौंपी। अब फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इंडिया ने 81 पन्नों की रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है। 

पेड़ कटान की विजिलेंस ने भी की थी जांच: कालागढ़ टाइगर रिजर्व पाखरो क्षेत्र में टाइगर सफारी के लिए पेड़ों के अवैध कटान और निर्माण की जांच विजिलेंस ने भी की थी। रिपोर्ट में कई अनियमितताएं उजागर हुई थीं। पाखरो में वन विभाग ने 106 हेक्टेयर वन क्षेत्र में टाइगर सफारी के लिए बाड़ों का निर्माण समेत कई कार्य कराए थे।

मगर, इस प्रोजेक्ट के तहत 2019 में अवैध तरीके से पेड़ काटे गए और अवैध निर्माण किए गए। राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) की टीम ने भी संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए थे। विजिलेंस की रिपोर्ट में निर्माण कार्यों के लिए वित्तीय और प्रशासनिक स्वीकृति नहीं लेने की बात सामने आयी थीं। 

बाघों के बाड़े के डिजाइन की नहीं ली अनुमति: पाखरो में बाघों के बाड़ों के अंतिम डिजाइन को राष्ट्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण से अनुमोदित नहीं कराया गया। टाइगर सफारी के लिए वन भूमि हस्तांतरण के साथ ही राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण से अनुमति ली गई, लेकिन संरक्षित क्षेत्र के नियम-कायदों को दरकिनार कर दिया गया।

मामले में कालागढ़ टाइगर रिजर्व के तत्कालीन डीएफओ (अब रिटायर) किशन चंद और तत्कालीन मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक (अब रिटायर) जेएस सुहाग को निलंबित कर दिया था। साथ ही, कालागढ़ टाइगर रिजर्व के तत्कालीन निदेशक राहुल को वन मुख्यालय से संबद्ध कर दिया था। 

पीसीसीएफ ने रिपोर्ट  पर उठाए सवाल 
पीसीसीएफ विनोद सिंघल ने बताया कि विभाग को एफएसआई की रिपोर्ट मिल गई है। लेकिन इसमें इस्तेमाल तकनीक को लेकर कुछ प्रश्न हैं। इन सवालों पर उन्होंने एफएसआई से जवाब मांगा है। उन्होंने कहा कि एफएसआई के जवाब के बाद इस रिपोर्ट का दोबारा अवलोकन कर इसे स्वीकार किया जाएगा। समझा जा रहा है कि पेड़ कटान की रिपोर्ट मिलने के बाद पाखरो टाइगर सफारी मामले से जुड़े तमाम अधिकारियों की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं।  

6,093 पेड़ बिना इजाजत काटे
एफएसआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि करीब 16.21 हेक्टेयर क्षेत्र में पेड़ काटे गए। पुराने और नई सेटेलाइट इमेज के आधार पर हजारों पेड़ों को काटने का अनुमान लगाते हुए एफएसआई ने कहा कि काटे गए पेड़ों की संख्या करीब 6,093 है। रिपोर्ट में कहा गया कि, काटे गए पेड़ों की संख्या कम से कम 5,765 और ज्यादा से ज्यादा 6,421 हो सकती है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com