Sunday , July 21 2024

दिल्ली में जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए थे नमूने, 16 में जेएन.1 वेरिएंट की हुई पुष्टि

दिल्ली में कोविड-19 सब-वैरिएंट जेएन.1 के 16 मामले दर्ज किए गए हैं। सभी को होम आइसोलेशन में रखा गया है। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले हफ्ते कोविड-19 सब-वैरिएंट जेएन.1 का पहला मामला सामने आया था। एक अधिकारी ने बताया कि जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए 19 नमूनों की रिपोर्ट सोमवार को प्राप्त हुई। अधिकारियों ने कहा कि इनमें से 15 नमूनों में जेएन.1 वैरिएंट, दो में एक्सबीबी सब-वेरिएंट और बाकी में अन्य वैरिएंट पाए गए।

अधिकारी ने बताया कि पहले मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, क्योंकि वह डरी हुई थी। उसमें हल्के लक्षण थे। उसे कुछ दिनों के भीतर छुट्टी दे दी गई। जेएन.1 वैरिएंट के साथ पाए गए 15 मरीज घर में अलग-अलग हैं और उन्हें कोई असुविधा नहीं है। उनमें से चार ठीक भी हो गए हैं। अधिकारी ने कहा कि चिंता की कोई बात नहीं है।

इससे पहले दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि हाल ही में सामने आए कोविड-19 मामले हल्के संक्रमण हैं और चिंता का कोई कारण नहीं है। भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली में स्थिति नियंत्रण में है और मामलों में कोई बड़ी वृद्धि नहीं हुई है। बीमारी के बारे में दिल्ली और पड़ोसी राज्यों से अब तक जो जानकारी मिली है, उससे पता चलता है कि मामले हल्के हैं। कुछ लोगों को हल्की खांसी-जुकाम है और कुछ को हल्का बुखार है। लोग इस बीमारी से जल्दी ठीक हो रहे हैं। फिलहाल चिंता की कोई बात नहीं है।

मंगलवार को अपडेट किए गए आईएनएसएसीओजी के आंकड़ों के अनुसार, देश में अब तक कोविड-19 सब-वेरिएंट जेएन.1 के कुल 312 मामले पाए गए हैं, जिनमें से लगभग 47 प्रतिशत केरल में दर्ज किए गए हैं। अब तक दस राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने वायरस के JN.1 सब-वेरिएंट की उपस्थिति का पता लगाया है। केरल (147), गोवा (51), गुजरात (34), महाराष्ट्र (26), तमिलनाडु (22), दिल्ली (16), कर्नाटक (आठ), राजस्थान (पांच), तेलंगाना (दो) और ओडिशा ( एक)।

आईएनएसएसीओजी के आंकड़ों से पता चला है कि दिसंबर में देश में दर्ज किए गए 279 कोविड मामलों में JN.1 की उपस्थिति थी, जबकि नवंबर में 33 ऐसे मामलों का पता चला था।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com