Sunday , February 25 2024

इमरान खान फिर पाकिस्तान सरकार के खिलाफ हल्ला-बोल करने को तैयार, फवाद चौधरी ने कहा..

इसी साल अप्रैल महीने में ‘बेआबरू’ होकर सत्ता से बाहर निकले इमरान खान लगातार फिर पाकिस्तान का वजीर-ए-आजम बनने का ख्वाब देख रहे हैं। वो लगातार अपने प्रदर्शनों से शहबाज शरीफ सरकार को मुश्किल में डाल रहे हैं। दूसरी तरफ आर्थिक बोझ के चलते सरकार चलाना शहबाज के लिए मुश्किलात पैदा कर रहा है। हाल ही में प्रदर्शन के दौरान पैर पर चार गोलियां खाने के बाद इमरान खान फिर पाकिस्तान सरकार के खिलाफ हल्ला-बोल करने को तैयार हैं। पीटीआई के नेता फवाद चौधरी ने कहा कि आज से पार्टी सरकार के खिलाफ सड़क में उतरेगी। हालांकि इमरान खान अभी प्रदर्शन से नहीं जुड़ेंगे। चौधरी ने इमरान का हेल्थ अपडेट भी दिया है।

पाकिस्तानी समाचार पत्र डॉन ने गुरुवार को फवाद चौधरी के हवाले से कहा, “शुक्रवार से, मुद्रास्फीति और डूबती अर्थव्यवस्था के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा और यह आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक कि मौजूदा सरकार को हटा नहीं दिया जाता।”

शहबाज सरकार को गिराने की प्लानिंग तैयार!
डॉन के अनुसार, फवाद चौधरी ने घोषणा की कि विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व नेशनल असेंबली के पीटीआई सदस्य निर्वाचन क्षेत्रों में करेंगे और कहा कि आंदोलन हर शहर में जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि इमरान खान तीन सप्ताह के बाद अगली कार्ययोजना के बारे में घोषणा करें

करेंगे। उन्होंने कहा कि इमरान खान ने पार्टी के वरिष्ठ सदस्यों के साथ बैठक कर यह फैसला किया है.

डॉन ने फवाद चौधरी के हवाले से कहा, “इन विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व पीटीआई एमएनए अपने निर्वाचन क्षेत्रों में करेंगे।” उन्होंने कहा कि आंदोलन हर शहर में जारी रहेगा। चौधरी ने कहा, “तीन सप्ताह के बाद, इमरान खान अगली कार्ययोजना की घोषणा करेंगे।” इसके अलावा, फवाद चौधरी ने यह भी घोषणा की कि हिरासत में लिए गए पार्टी सीनेटर आजम स्वाती की रिहाई के लिए “भारी विरोध” आयोजित किया जाएगा, जो वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के खिलाफ विवादास्पद ट्वीट्स में हिरासत में हैं।

शहबाज सरकार पर खूब बरसे फवाद
डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, चौधरी ने चुनावों को “एकमात्र रास्ता” कहा और जोर देकर कहा कि पाकिस्तान में एक टेक्नोक्रेट सरकार लाने का विचार “बर्दाश्त नहीं किया जाएगा”। चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान में “कुछ तबके” मध्यावधि चुनाव के खिलाफ थे और उन्होंने इस प्रयोग के लिए सत्ता प्रतिष्ठान को जिम्मेदार ठहराया।

डॉन ने फवाद चौधरी के हवाले से कहा, “यदि आप संविधान को देखते हैं, तो चुनाव ही एकमात्र रास्ता है। जनता एक तकनीकी सरकार को स्वीकार नहीं करेगी। वे केवल आम चुनाव को स्वीकार करेंगे।”

समाचार रिपोर्ट के अनुसार, फवाद चौधरी ने जोर देकर कहा कि मुद्दों को बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए और बम और मिसाइल कोई समाधान नहीं हैं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सरकार ने पूर्व प्रशासित कबायली क्षेत्र के खैबर पख्तूनख्वा में विलय के बाद कबायली जिलों के विकास पर पैसा खर्च करना बंद कर दिया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com