Saturday , June 22 2024

द्रमुक मंत्री सेंथिल बालाजी को बर्खास्त करने के पांच घंटे बाद राज्यपाल आरएन रवि ने अपना फैसला किया स्थगित

मंत्री वी सेंथिल बालाजी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने के राज्यपाल आरएन रवि के बाद में पलटे कदम से संबंधित सभी विकल्पों और कानूनी कारकों पर द्रमुक विचार कर सकती है। इस बात की जानकारी शुक्रवार को सूत्रों की ओर से दी गई है।

उल्टी पड़ रही भाजपा की सभी राजनीतिक चालें

सूत्रों ने बताया कि पार्टी के आला अधिकारी इस मामले पर कानूनी और राजनीतिक दोनों तरह की रणनीति तैयार करने के लिए अपने नेताओं और पदाधिकारियों से परामर्श कर सकते हैं। एक पदाधिकारी ने कहा, “राज्यपाल पीछे हट गए हैं और वह पूरी तरह से बेनकाब हो गए हैं।” उन्होंने कहा कि द्रमुक को निशाना बनाने के लिए भाजपा की सभी राजनीतिक चालें तमिलनाडु में उल्टी पड़ रही हैं।

बर्खास्त करने के कुछ देर बाद किया स्थगित

सूत्रों ने कहा कि कानूनी पहलुओं पर गौर करने या किसी अन्य चीज पर विचार करने की तुरंत जरूरत नहीं थी, क्योंकि बर्खास्तगी अब रुकी हुई थी। गुरुवार को, बालाजी को कैबिनेट से बर्खास्त करने के कुछ घंटों बाद, रवि ने बाद में इसे स्थगित कर दिया था।

राज्यपाल के खिलाफ कानूनी विकल्प पर विचार

हालांकि, सूत्रों ने कहा कि द्रमुक राज्यपाल की कथित ज्यादतियों के खिलाफ कानूनी विकल्पों पर विचार कर सकती है और सही समय पर और जरूरत पड़ने पर भाजपा से राजनीतिक रूप से लड़ सकती है। सत्तारूढ़ द्रमुक के मुखपत्र मुरासोली ने कहा कि रवि की बर्खास्तगी के निर्देश को केंद्रीय गृह मंत्रालय की सलाह के अनुसार पांच घंटे के भीतर रोक दिया गया।

गृह मंत्रालय के हस्तक्षेप के कुछ देर में स्थगित

सेंथिल बालाजी पश्चिमी कोंगु क्षेत्र में एक प्रभावशाली नेता हैं। वर्षों पहले द्रमुक में शामिल होने से पहले वह अन्नाद्रमुक में थे। द्रमुक ने शुक्रवार को कहा कि मंत्री वी सेंथिल बालाजी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने के रवि के आदेश को केंद्रीय गृह मंत्रालय के हस्तक्षेप के कुछ ही घंटों के भीतर राजभवन ने स्थगित कर दिया।

बर्खास्तगी आदेश से संबंधित 29 जून की घटनाओं को समझाते हुए, तमिल दैनिक ने कानूनी दिग्गजों और पार्टी नेताओं द्वारा की गई कड़ी निंदा को रेखांकित किया। आधी रात तक सूचना आई कि मामले पर अटॉर्नी जनरल की राय जानने के लिए बर्खास्तगी आदेश को स्थगित रखा जा रहा है। गौरतलब है कि राज्यपाल के आदेश को पांच घंटे में ही रोक दिया गया।

अगले संचार तक बर्खास्तगी का आदेश निलंबित

देर शाम मुख्यमंत्री को भेजे पत्र में राज्यपाल ने कहा कि वह अटॉर्नी जनरल से परामर्श करेंगे और इस कदम के बारे में उनकी कानूनी राय लेंगे। राज्यपाल ने बालाजी को कैबिनेट से हटाने की वजह बताई थी। नौकरी के बदले नकदी घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा गिरफ्तार और अस्पताल में भर्ती बालाजी को मंत्रिपरिषद से बर्खास्त करने के आदेश को राज्यपाल ने अगले संचार तक स्थगित रखा है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com