Sunday , February 5 2023

इमरान खान ने प्रधानमंत्री की हाल की विदेश यात्राओं पर टिप्पणी करते हुए कही ये बड़ी बात ..

पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुद मौजूदा पीएम शहबाज शरीफ के ‘भीख का कटोरा’ लेकर घूमने की पुष्टि कर दी है। उन्होंने रविवार को कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ भीख का कटोरा लेकर दुनिया भर के विभिन्न देशों की यात्रा कर रहे हैं, लेकिन उनमें से कोई भी उन्हें एक पैसा नहीं दे रहा है। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के अध्यक्ष खान ने एक समाचार चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘देखिए, इस आयातित सरकार ने पाकिस्तान के साथ क्या किया है।’

इमरान खान ने प्रधानमंत्री की हाल की विदेश यात्राओं पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘शहबाज शरीफ भीख का कटोरा लेकर विभिन्न देशों की यात्रा कर रहे हैं, लेकिन उनमें से कोई भी उन्हें एक पैसा नहीं दे रहा है। शरीफ भारत से बातचीत के लिए भीख मांग रहे हैं, लेकिन नई दिल्ली उनसे पहले आतंकवाद को खत्म करने के लिए कह रही है।’ दरअसल, खान ने UAE के मीडिया संगठन को प्रधानमंत्री के हालिया इंटरव्यू का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने भारत के साथ बातचीत की इच्छा जाहिर की थी। शरीफ के बयान पर टिप्पणी करते हुए भारत ने कहा था कि वह हमेशा पाकिस्तान के साथ सामान्य पड़ोसी का संबंध चाहता है, लेकिन ऐसे संबंधों के लिए आतंक और हिंसा से मुक्त माहौल होना चाहिए।

‘मेरी हत्या कोशिश के पीछे थे ये लोग…’
पूर्व पीएम खान की यह टिप्पणी शरीफ की संयुक्त अरब अमीरात की 2 दिवसीय यात्रा के कुछ सप्ताह बाद आई है, जिस दौरान खाड़ी अमीरात 2 अरब डॉलर का मौजूदा ऋण देने और एक अरब डॉलर का अतिरिक्त ऋण देने पर सहमत हुआ था। इससे तेजी से घट रहे विदेशी मुद्रा भंडार के बीच आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान को आर्थिक संकट से निपटने में मदद मिल सकती है। 70 वर्षीय खान ने आगे कहा कि उन्हें 100 प्रतिशत यकीन है कि शहबाज शरीफ, गृह मंत्री राणा सनाउल्लाह और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ‘आईएसआई काउंटर इंटेलिजेंस विंग’ के प्रमुख मेजर-जनरल फैसल नसीर उनकी हत्या के प्रयास के पीछे थे।

‘ऊपर वाले की इच्छा थी कि मैं बच गया’
इमरान ने कहा, ‘अब मुझे 100 प्रतिशत यकीन हो गया है कि शहबाज और अन्य 2 जिनका नाम मैंने प्राथमिकी में लिया था, जो दर्ज नहीं की जा सकी थी, ने मुझे मारने की साजिश रची थी। यह एक सटीक साजिश थी, क्योंकि तीन प्रशिक्षित निशानेबाजों को मेरी हत्या करने के लिए भेजा गया था। लेकिन यह ऊपर वाले की इच्छा थी कि मैं बच गया।’ मालूम हो कि खान को पिछले साल 3 नवंबर को पंजाब प्रांत (लाहौर से करीब 150 किलोमीटर दूर) के वजीराबाद इलाके में उनकी पार्टी की रैली के दौरान तीन गोलियां लगी थीं।

‘सेना को राजनीति से रहना होगा दूर’

यह पूछे जाने पर कि क्या सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की सेवानिवृत्ति के बाद सैन्य प्रतिष्ठान तटस्थ हो गए, इस पर खान ने कहा, ‘नहीं, सैन्य प्रतिष्ठान अब भी तटस्थ नहीं है।’ खान ने सैन्य प्रतिष्ठान से पिछली गलतियों से सीखने और राजनीति से दूर रहने को कहा। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, ‘अगर सेना राजनीति में दखल देना जारी रखती है और स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव नहीं होते हैं, तो देश में अव्यवस्था और अराजकता होगी। इसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।’

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com