Tuesday , May 21 2024

कोणार्क के सूर्य मंदिर से 119 साल बाद निकाली जा रही रेत, जानिए आखिर क्यों

ओडिशा के कोणार्क स्थित सूर्य मंदिर के गर्भगृह से 119 साल बाद कई टन रेत (बालू) निकाली जा रही है। रेत निकालने के साथ ही सूर्य मंदिर का आकार भी बदल जाएगा। इस कार्य को करने के लिए 3 साल का लक्ष्य रखा गया है। कार्य बेहतर ढंग हो इसके लिए बीते दिन सूर्य मंदिर में पूजा अर्चना भी की गई।भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के अधीक्षक अरुण मल्लिक ने कहा कि पिछले दो वर्षों से विभिन्न विशेषज्ञों और इंजीनियरों के साथ विचार-विमर्श करते हुए मंदिर से रेत हटाई जा रही है। इसके लिए एक सुरक्षित प्रणाली तैयार की गई है ताकि लोग 13 वीं शताब्दी के मंदिर में प्रवेश कर सकें।

3 साल में हटेगी रेत

उड़ीसा उच्च न्यायालय के निर्देश और केंद्रीय मंत्री के संसद को दिए गए आश्वासन के बाद प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसके लिए एक प्रतिष्ठित निजी निर्माण कंपनी काम के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करेगी जबकि रेत हटाने के लिए एएसआई अधिकारियों को तैनात किया जाएगा। एएसआई का लक्ष्य नवीनतम तकनीक का उपयोग करके वैज्ञानिक तरीके से तीन साल में रेत को हटाना है। रेत को हटाने का निर्णय 2020 में एएसआई द्वारा कोणार्क में आयोजित एक राष्ट्रीय सम्मेलन में लिया गया था।

ऐसे निकाली जाएगी रेत

बता दें कि रेत को निकालने के लिए पहले चरण में निजी कंपनी बीडीआर कंस्ट्रक्शन इसके लिए 4 फीट चौड़ी और 5 फीट ऊंची सुरंग बनाकर मेकेनिकल वर्किंग प्लेटफार्म तैयार करेगी। इस प्लेटफार्म पर लिफ्ट और ट्राली के जरिए गर्भगृह से रेत और पत्थर निकाले जाएंगे। एएसआई के अनुसार रेत निकालते हुए संरचना को अस्थाई सपोर्ट देने के लिए स्टील बीम गाढे जाएंगे। 

1903 में ब्रिटिश सरकार ने भराई थी रेत

सन 1903 में ब्रिटिश काल के दौरान सूर्य मंदिर की सुरक्षा और संरक्षण के लिए मंदिर के गर्भगृह के अंदर रेत भरी गई थी। खराब मौरम के चलते संरचना को गिरने से बचाने के लिए गर्भगृह के चार प्रवेश द्वारों को सील कर इसमें रेत भर दी गई थी।

क्यों हटाई जा रही रेत

ब्रिटिश सरकार द्वारा जब रेत भरी गई थी तो यह माना गया था कि यह गर्भगृह का भार अपने ऊपर ले लेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह रेत धीरे-धीरे खिरकती गई और अब संरचना में दरारे आने लगी। इसके चलते दुनिया भर के कई विशेषज्ञों ने संरचना को और मजबूत करने के लिए सूर्य मंदिर के जगमोहनम (गर्भगृह) से रेत हटाने का सुझाव दिया। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि रेत को हटाने से मंदिर का जीवनकाल कई गुना बढ़ जाएगा। बता दें कि इसकी मांग रुड़की स्थित सेंटर फार बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीबीआर) की उस रिपोर्ट के बाद की गई थी जिसमें रेत के खिसकने की बात कही गई थी। इसके बाद हाई कोर्ट ने एएसआइ की भूमिका पर भी सवाल उठाए थे।

800 साल पहले बना था मंदिर

बता दें कि गंगा वंश के राजा नरसिंहदेव प्रथम ने 800 साल पहले सूर्य देव की पूजा अर्चना के लिए यह मंदिर बनवाया था। 13 वीं शताब्दी से यह कलिंगन मंदिर पुरी और भुवनेश्वर के साथ ओडिशा के स्वर्ण त्रिभुज का हिस्सा है और पर्यटकों, तीर्थयात्रियों और इतिहास और कला प्रेमियों को आकर्षित करता है। हालांकि, तब से स्मारक ने अपना मुख्य ढांचा खो दिया है और केवल गर्भगृह ही बचा है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com