Tuesday , April 16 2024

ईस्ट कांगो में संयुक्त राष्ट्र विरोधी प्रदर्शनों में 15 की मौत और 50 लोग हुए घायल…

पूर्वी कांगो में संयुक्त राष्ट्र मिशन के खिलाफ दो दिनों के प्रदर्शनों के दौरान 15 लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। संयुक्त राष्ट्र ने पुष्टि की, कि संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के साथ सेवारत एक शांतिदूत और दो अंतरराष्ट्रीय पुलिसकर्मी पूर्व में उत्तरी किवु प्रांत के बुटेम्बो में संयुक्त राष्ट्र के खिलाफ हुए हिंसा में मारे गए। जबकि एक अन्य घायल हो गया। हिंसक हमलावरों ने कांगो पुलिस से हथियार छीन लिए और संयुक्त राष्ट्र कर्मियों पर गोलीबारी की।

मामले की होगी जांच

संयुक्त राष्ट्र के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों के मारे जाने और नागरिकों को घायल करने की खबरों सहित आम नागरिकों के हताहत होने की खबरों की जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि मंगलवार को ‘विशेष रूप से सोशल मीडिया पर संयुक्त राष्ट्र के खिलाफ व्यक्तियों और समूहों द्वारा की गई शत्रुतापूर्ण टिप्पणियों और धमकियों से प्रेरित’ सैकड़ों हमलावरों ने गोमा के साथ-साथ उत्तरी किवु के अन्य हिस्सों में ‘संयुक्त राष्ट्र बल के ठिकानों पर फिर से हमला किया, जिसे इसके फ्रांसीसी संक्षिप्त नाम मोनुस्को के नाम से जाना जाता है।’

भीड़ ने पत्थर और पेट्रोल बम से किया हमला

हक ने कहा, ‘भीड़ पत्थर और पेट्रोल बम फेंक रही है। ठिकानों में तोड़फोड़ कर रही है। लूटपाट कर रही है। त्वरित प्रतिक्रिया बलों को भेजकर हम चीजों को शांत करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन इस बात का कोई सबूत नहीं है कि हिंसा समाप्त हो गई है।’

भीड़ ने संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के परिसर में घुसने की कोशिश की

इसके अलावा, हक ने कहा कि कम से कम चार घटनाओं में मोनुस्को कर्मचारियों के आवासों को निशाना बनाया गया, जिन्हें अब संयुक्त राष्ट्र शिविरों में स्थानांतरित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि भीड़ ने मंगलवार की शुरुआत में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के परिसर में घुसने की कोशिश की लेकिन सुरक्षा गार्डों ने विद्रोह कर दिया।

प्रदर्शनकारियों ने संयुक्त राष्ट्र मिशन कार्यालय में लगाई आग

प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को गोमा में संयुक्त राष्ट्र मिशन कार्यालयों में आग लगा दी थी और जबरन प्रवेश किया। उन्होंने शांति सेना पर कांगो के पूर्वी क्षेत्र में बढ़ती हिंसा के बीच नागरिकों की रक्षा करने में विफल रहने का आरोप लगाया। वे वर्षों से कांगो में मौजूद संयुक्त राष्ट्र सेना को देश छोड़ने के लिए कह रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों ने शांति सेना को ठहराया जिम्मेदार

  • कांगो की पुलिस ने कहा कि गोमा में सोमवार को छह और बुटेम्बो में आठ नागरिक मारे गए। 
  • इससे पहले, सरकार के प्रवक्ता पैट्रिक मुयाया ने कहा कि सोमवार तक पांच लोग मारे गए और लगभग 50 घायल हो गए।
  • प्रदर्शनकारियों ने मौतों के लिए शांति सैनिकों द्वारा चलाई गई गोलियों को जिम्मेदार ठहराया।
  • कांगो के पूर्व में नागरिकों को इस्लामिक स्टेट समूह से जुड़े जिहादी विद्रोहियों की हिंसा से भी जूझना पड़ा है।

सरकार ने शांति बहाल करने के दिए निर्देश

सरकार के प्रवक्ता ने यह नहीं बताया कि मौतों का कारण क्या है। उन्होंने कहा, ‘सरकार ने सुरक्षा बलों को गोमा में शांति बहाल करने और गतिविधियों को सामान्य रूप से बहाल करने के लिए सभी उपाय करने का निर्देश दिया है।’ उन्होंने यह भी दोहराया कि शांति सेना को वापस लेने के लिए पहले से ही कदम उठाए जा रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षा प्रमुख जल्द ही करेंगे कांगो का दौरा

MONUSCO के कार्यवाहक प्रमुख खासीम डायग्ने और संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता हक ने संयुक्त राष्ट्र कर्मियों की हत्याओं की निंदा की। हक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षा प्रमुख जीन पियरे लैक्रोइक्स, जो वर्तमान में माली में हैं, जल्द ही कांगो का दौरा करेंगे। डायग्ने ने संयुक्त राष्ट्र के खिलाफ हिंसा को ‘बिल्कुल अस्वीकार्य’ बताया। हक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के पास अपने शांति सेना को हटाने और यहां तक ​​कि कांगो से हटने की योजना है, लेकिन ‘हम रुके हुए हैं क्योंकि जमीन पर स्थिति खतरनाक है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com